Jal Yatra' 'पृथ्वी की अनूठी जल यात्रा '

जल यात्रा

11th May, 2018

जल यात्रा

26th April, 2018

आज 26th Apr. को, पृथ्वी इन्नोवेशन्स द्वारा 'जल यात्रा 'का आयोजन हज़रतगंज में किया गया, जिसमें पंद्रह  से भी अधिक संख्या से कई विधालयों के ३०० बच्चों और युवाओं ने बढ़ चढ़ कर हिस्सा लिया !

घैला पुल से शुरू हुई  पृथ्वी इन्नोवेशन्स द्वारा संचालित, 'जल यात्रा' , में सभी ने आज GPO से बदरिया बाघ चौराहे
तक मार्च किया !

गोमती गाथा', नदी सफाई एवम पुनर्जन्म और नदी या जल संरक्षण  हेतु ,घैला पुल पर,पृथ्वी की अनूठी 'जल यात्रा' का शुभारंभ २१ अप्रैल को हुआ था ।

अनुराधा जी ने बताया कि इस जल यात्रा  21 से 26 अप्रैल तक ,लखनऊ के अलग अलग हिस्सों में,जैसे इंदिरानगर, गोमतीनगर,
अलीगंज,राजाजीपुरम, विकासनगर,राजेंद्रनगर ,ईं रोड,आदि , ५००० लोगों को
जोड़ने और जागरूक करने का प्रयास किया गया !

कचरे से निकले मटके को सूंदर स्वरुप देकर जल कलश  बनाए  और  आज की जल यात्रा में  सब से यह जल कलश अपने हाथों में पकड़ कर जल स्रोतों में गिरते हुए पानी के स्तर की तरफ सब का ध्यान केंद्रित  किया !

पृथ्वी इन्नोवेशन्स की सचिव अनुराधा जी ने बताया, कि,
इस जल यात्रा का मुख्य उद्देश्य, सूख रहे जल स्रोतों ,नदियों को एवं पॉलिथीन ,प्लास्टिक,विशेषले रासायन आदि से दूषित हो रहे जल स्रोतों की तरफ, सभी का ध्यान खींचना एवम जनता और सरकार से उन के संरक्षण एवं स्वच्छता की अपील करने हैं।"

इस जल यात्रा का उद्देश्य, सभी को, न केवल प्रकृति, जल, नदियों में पल रहे जीव जंतुओं से,अपितु अपनी संस्कृति, व आपस में भी,जैसे गांव को शहर से, जनता को सरकार से,सभी संस्थाओं को भी  जोड़ना हैं और विशेष कर बच्चों के अंदर संवेदना और ज़िम्मेदारी का भाव जाग्रत करना हैं।

आज की जल यात्रा ke
विशेष  अथिति  िख्यात वैज्ञानिक डॉक्टर सी एम् नौटियाल एवं पायनियर मोंटेसरी स्कूल की प्रधानाचार्य श्रीमती शर्मीला जी रहीे ।
अस पी (ईस्ट) पुलिस की टीम एवं डीएम ऑफिस से भी बहुत सहयोग मिला !

२५  से भी अधिक संस्थाओं के प्रतिनिधियो ने,जैसे ,लखनऊ नगर निगम,जन शिक्षण संस्थान, बाबा भीमराव अंबेडकर विश्वविद्यालय,सेठ AR जयपुरिया,CMS विद्यालय kaकी ी शाखाएँ , पायनियर मोन्टेसोररी, महर्षि विद्या मंदिर,बाल भारती ,गांधी fellows, cdri ,nbri एवं घैला गांव की महिलाओं एवं बच्चे आदि !

ईश्वर की वंदना के बाद, सभी बच्चों ,युवा ने,पृथ्वी इन्नोवेशन्स के नेतृत्व में
एक घण्टे तक ,जोशभरे नारो के साथ जैसे ,"सूख रही हैं नदियाँ अपनी इनमें जल भर दे सूख रहे हैं धरती अम्बर आओ इन में जल भर दे !",
सभी को जल बचाने के लिए  प्रेरित किया  ।

सब ने मिल कर  पॉलीथीन, प्लास्टिक,पूजा सामग्री,मूर्तियां, आदि कचरे को नदी में नहीं डालने को कहा और अपने सभी जल स्रोतों को प्रदुषण से बचाने का संकल्प लिया ।

पृथ्वी इन्नोवेशन्स ने सभी अतिथियों को, पृथ्वी इन्नोवेशंस के 'गोमती  गाथा ',नदी सफाई और जल संरक्षण   अभियान से अवगत कराया और गोमती नदी से एक रिश्ता जोड़ने के लिए घैला घाट पर ,स्वच्छ भारत मिशनके तहत श्रमदान करने को  आमंत्रित kiya  !

नगर निगम से,अपर नगर आयुक्त पी के श्रीवास्तव  जी , वाटर एक्सपर्ट ,बाबा भीमराव अंबेडकर विश्विद्यालय से drवेंकटेश दत्ता जी व
अनुराधा जी ने सभी बच्चों और युवाओं एवं घैला पुल के निवासियों के साथ,
मिट्टी के कलश,यानी मटको में, गोमती नदी का थोड़ा सा जल भर कर और एक संकल्प के साथ कि, सभी इस जल यात्रा को अपने अपने स्कूल,आफिस व उस के आसपास के लोंगो तक इस को ले कर जायेगें और सब को जल का महत्व बताएगें ,
इस जल यात्रा की शुरुवाद २१अपैल को की थी !

पृथ्वी इन्नोवेशन्स की टीम ने इस प्रकार हर वर्ष की तरह ,   'पृथ्वी दिवस ' २१ से २६ अप्रैल तक , सभी लोगों को प्रकृति से खासतोर से गोमती नदी से जोड़ने का  एक सार्थक प्रयास किया ।

21st April, 2018

आज 21st Apr. को,'पृथ्वी दिवस' पर पृथ्वी इन्नोवेशन्स द्वारा ,'पृथ्वी उत्सव' मनाया गया, जिसमें अपर नगर आयुक्त जी श्री PK श्रीवास्तव जी मुख्य अथिति रहे ।

ईश्वर की वंदना के बाद,करीब 150 बच्चों ,युवा और नगर निगम के सफाई कर्मचारियों ने,पृथ्वी इन्नोवेशन्स के नेतृत्व में,
एक घण्टे तक जोशभरे श्रमदान का परिचय दिया ।
सब ने मिल कर करीब 50 बैग्स से भी ज़्यादा पॉलीथीन, प्लास्टिक,पूजा सामग्री,मूर्तियां, आदि कचरे को नदी से निकाला।

पृथ्वी इन्नोवेशन्स ने सभी अतिथियों को, लाल चुनर की सुंदर सी पोटलियां, सेव फ़ूड के संदेश वाले रुमाल,और नदी से निकलने कचरे से बने मटके और पुष्प टोकरी से सब का स्वागत किया।

इस के बाद, 'गोमती गाथा', नदी सफाई एवम पुनर्जन्म और नदी या जल संरक्षण  हेतु ,घैला पुल पर,पृथ्वी की अनूठी 'जल यात्रा' का शुभारंभ हुआ।

पृथ्वी इन्नोवेशन्स की सचिव अनुराधा जी ने बताया, कि,
इस जल यात्रा का मुख्य उद्देश्य, सूख रहे जल स्रोतों ,नदियों को एवं पॉलिथीन ,प्लास्टिक,विशेषले रासायन आदि से दूषित हो रहे जल स्रोतों की तरफ, सभी का ध्यान खींचना एवम जनता और सरकार से उन के संरक्षण एवं स्वच्छता की अपील करने हैं।"

इस जल यात्रा का उद्देश्य, सभी को, न केवल प्रकृति, जल, नदियों में पल रहे जीव जंतुओं से,अपितु अपनी संस्कृति, व आपस में भी,जैसे गांव को शहर से, जनता को सरकार से,सभी संस्थाओं को भी  जोड़ना हैं और विशेष कर बच्चों के अंदर संवेदना और ज़िम्मेदारी का भाव जाग्रत करना हैं।

घैला पुल नदी तट से शुरू हुई यह 'जल यात्रा' में एक आज कुछ ऐसा ही हुआ,10 से भी अधिक संस्थाओं के प्रतिनिधियो ने,जैसे ,लखनऊ नगर निगम,जन शिक्षण संस्थान, बाबा भीमराव अंबेडकर विश्वविद्यालय,सेठ AR जयपुरिया,CMS विद्यालय, पायनियर मोन्टेसोररी,महर्षि विद्या मंदिर,बाल भारती ,गांधी fellows, cdri ,nbri एवं घैला गांव की महिलाओं एवं बच्चों ने बड़े उत्साह से हिस्सा लिया।

नगर निगम से,अपर नगर आयुक्त पी के श्रीवास्तव जी, श्री पंकज भूषण जी,वाटर एक्सपर्ट ,बाबा भीमराव अंबेडकर विश्विद्यालय से drवेंकटेश दत्ता जी व उन के परिवार ने,पृथ्वी इन्नोवेशन्स से युवा सदस्य अभिषेक,जन शिक्षण संस्थान से श्री SP रस्तोगी जी,iim से dr पंकज कुमार ,cdri से Dr Khan एवं NBRI से Dr अमित जी ने सभी बच्चों और युवाओं एवं घैला पुल के निवासियों के साथ ,जल यात्रा में अपनी भूमिका निभाई।

वाटर एक्सपर्ट ,बाबा भीमराव अंबेडकर विश्विद्यालय से drवेंकटेश दत्ता जी व
अनुराधा जी ने सभी को ,ईश्वर की स्तुति एवं श्री श्याम किशोर शुक्ल जी द्वारा वरुण देवता का आह्वान करते हुए, छोटे छोटे , मिट्टी के कलश,यानी मटको में, गोमती नदी का थोड़ा सा जल भरा। कर और एक संकल्प के साथ कि, सभी इस जल यात्रा को अपने अपने स्कूल,आफिस व उस के आसपास के लोंगो तक इस को ले कर जायेगें और सब को जल का महत्व बताएगें ।

सभी के हैंड में सजे हुए, जल के कलश ,बहुत सुंदर और सार्थक लग रहे थे।

अनुराधा जी ने बताया कि इस जल यात्रा  21 से 26 अप्रैल तक, ज़्यादा se ज़्यादा लोगों को,लखनऊ के अलग अलग हिस्सों में,जैसे इंदिरानगर, गोमतीनगर, अलीगंज,राजाजीपुरम, विकासनगर,राजेंद्रनगर ,ईं रोड,आदि ,जोड़ने और जागरूक करने का प्रयास किया जायेगा ।

26अप्रैल को, घैला पुल से शुरू हुई  पृथ्वी इन्नोवेशन्स द्वारा संचालित, 'जल यात्रा' ,GPO से vvip गेस्ट हाउस तक मार्च करेगी।

आज के 'पृथ्वी उत्सव ' की सब से बड़ी उपलब्धि थी कि घैला गांव की महिलाओं ने बड़े जोश से जल यात्रा में शामिल हो कर, अपनी गोमती नदी को साफ करने का संकल्प लिया और अपने गांव में कचरा ,इधर उधर न फेंकने का,पेड़ लगाने की पहल,एवं कपड़े के थैले बना कर सब को देने का वादा किया ।

पृथ्वी इन्नोवेशन्स की टीम ने इस तरह आज  'पृथ्वी दिवस ' पर सभी लोगों को प्रकृति से जोड़ने का एक सार्थक प्रयास किया ।